ब्लॉग

3 जुलाई
2019
तन शुद्ध और मन प्रसन्न रहता है – स्नान से ‘

‘स्नान’ शब्द प्रक्रियात्मक है । यह शब्द धोना, मार्जन करना, पानी में डुबकी लगाना आदि अर्थ धारण करता है । नित्य स्नान करने से शरीर स्वच्छ और मन प्रसन्न रहता है । प्रातःकाल जल से स्नान करना एक बाह्य क्रिया और स्थूल क्रिया है । इसे शरीर की शुद्धि के लिए अपनाया जाता है ।

3 जुलाई
2019
निर्भय और निष्पक्ष होकर धर्म का पालन करें

मनुष्य का बाहर मन और अन्तर्मन शुद्ध होना चाहिए । धर्म से कमाये हुए धन से किया गया परोपकार फलदायी होता है । रिश्वत लेना, बेइमानी, बलपूर्वक छीना गया धन व्यक्ति के परिवार को नष्ट कर देता है । ( ऋग्वेद ७-५६-१२ )

3 जुलाई
2019
लोगों के जीवन में ज्ञान की ज्योति जलाते हैंं “महापुरुष”

जो मनुष्य अपना आचरण शुद्ध बनाते हैंं । और दूसरों के आचरण को भी परिष्कृत करते हैं । हमें उनके सानिध्य में रहना चाहिए जिससे हमारे मन की मलीनता दूर हो और हम दुष्टों की दुष्टता दूर कर सकें ( यजुर्वेद ३५/११ )

Vaidik Sutra